फिर क्या

घर से निकला था कुछ करने को भीड़ से अलग होने को पर जिस भी ओर अकेले चलने को सोचा सामने एक मजमा पहले से खड़ा पाया, फिर क्या वहाँ रूकता तो मैं कहाँ रहता गुम हो जाता या किसी के पैरों तले कुचला जाता इसी डर से वापस घर लौट आया @NidhiSuryavansi

Quotes from ‘the monk who sold his Ferrari

I once read that people who study others are wise but those who study themselves are enlightened." The purpose of life is a life of purpose' ad rem vita est vita' Trust yourself. Create the kind of life you will be happy to live all your life. Nourish your spirit. Do the things you fear. … Continue reading Quotes from ‘the monk who sold his Ferrari