आज एक पतंग को उड़ते देखा

आज एक पतंग को उड़ते देखा, वैसे तो देखा कई बार था मगर आज ग़ौर किया उड़ते पंछियों को अक्सर देखती थी पर आज एक पतंग को उड़ते देखा, कुछ अलग सी बात थी उसमें बहुत ज़ोर की चाह आसमान को छू लेने की शायद, अकेले आसमान में सबसे ऊँचाई पर कोई पंछी भी नहीं … Continue reading आज एक पतंग को उड़ते देखा

We got life like a toy of glasses

Lastly everyone has a bed of soil and a sheet of ashes, We got life like a toy of glasses! All toys are decorated in the same shop, false-true, good-bad, sweet-blooded, For a few days all of them looked beautiful and bright,  But then the flying colors, scattered limbs, all become faded! As I grew … Continue reading We got life like a toy of glasses