डायरी अधूरी यादों की

डायरी अधूरी यादों की उसकी पुरानी बातों की है जिसमें लिखी उसने कहानी अपने बचपन की खो-खो की बारिश में तैरती काग़ज़ की नावों की उसके खेतों की उसके गाँवों की... कहानी, उसके धूप की उसके छावों की दास्ताँ मुश्किल सफ़र के उसकी दुखते कंधे नगें पाँवों की। कल माँ की बहुत पुरानी डायरी निकाली [...]

वक़्त ही तो था

वक़्त ही तो था जो गुजर गया आज़ादी के साए में कोई रिवायत होती तो चली आती। चाहे कुचलती वो कितनी उम्मीदों कितने नए सपनों को, जला देती उड़ने को बेसब्र उन परिंदों के पंखों को। पर आज मुकम्मल तो कहलाती हाँ कोई नए घरौंदें नहीं बनते, नए मेहमान नहीं आते लोग अपनों से बे-कैफ़ी [...]

Poetry- Telling the truth is a revolutionary act

Telling the truth is a revolutionary act, In a time of universal deceit and darken period, When everything is falling, Environment, society, democracy to humanity So there standing for the world, Is a revolutionary act; However, a revolution not comes by all overnight, It asks for so much, your all mind, the heart and body [...]